Republic Day Speech – Best and Reliable Information About Indian Republic Day, 26th January

Republic Day Speech


Republic Day Speech


Here the post is identified with republic day speech celebrated in India on 26 January, each year. Huge numbers of individuals hunt such sorts of Republic Day Status Hindi and related history behind this day. Here some huge issues are talk about behind this republic day celebrated in India. All the information are tenable. These are gathered from various trusted articles. You will get Republic Day Status Hindi after this short discourse.

Republic Day in India:

Prior to 1947, India was a provincial British state around 200 years (1857-1947). There were no any exceptional constitutions to Indians. All the regulatory power was controlled by the British government. After prolonged stretch of time battle India got opportunity in the year 1947, 15th august. In this time there were no any types of guidelines and directions for driving the nation well. In this circumstance some Indian incredible scholars has taken the obligations to make another types of constitution for the subjects. They framed established get together with the pioneers (299) from various piece of the nation.

Dr. B.R. Ambedkar, Jawaharlal Nehru, Rajagopalachari, Rajendra Prasad, Sardar Vallabhbhai Patel, Abul Kalam Azad, Sarojini Naidu, Durgabai deshmukh, Vijaya Lakhmi Pandit and some others were the key figures of this get together.

Drafting:

Benegal Narsing Rau (who turned into the primary Indian judge in the worldwide court of equity and was leader of the UNSC) was delegated as the get together’s sacred consultant in 1946, who arranged beginning draft out of the blue. Be that as it may, at august 1947 gathering of the sacred get together, boards of trustees were readied. Rau’s draft was changed by the eight-man drafting panel led by Dr. B.R. Ambedkar after debate and exchange.

At long last, an overhauled sacred draft was put together by this board of trustees on 4thNovember, 1947. At that point after long dialog reexamined constitution was embraced marked by 284 individuals on 26 January, 1949 – known as constitution day. Finally, in the year 1950, 26 January – it turned into the law of India. Each page was designed by the craftsmen of Shantiniketan. From this time every year in India 26 January is commended as the ‘Republic day’.


भारत में गणतंत्र दिवस:

1947 से पहले, भारत लगभग 200 वर्षों (1857-1947) में एक औपनिवेशिक ब्रिटिश राज्य था। भारतीयों के लिए कोई विशेष आधार नहीं थे। सारी प्रशासनिक शक्ति ब्रिटिश सरकार द्वारा नियंत्रित थी। लेकिन, लंबे समय के संघर्ष के बाद भारत को वर्ष 1947 में स्वतंत्रता मिली, 15 वां अगस्त। लेकिन, इस समय में देश को अच्छी तरह से आगे बढ़ाने के लिए कोई नियम और कानून नहीं थे। इस स्थिति में कुछ भारतीय महान विचारकों ने ‘लोगों द्वारा लोगों के लिए’ लोगों के संविधान के नए रूपों को बनाने के लिए ज़िम्मेदारियाँ ली हैं। उन्होंने देश के विभिन्न हिस्सों के नेताओं (299) के साथ संवैधानिक सभा का गठन किया।

डॉ. बी.आर. अंबेडकर, जवाहरलाल नेहरू, राजगोपालाचारी, राजेंद्र प्रसाद, सरदार वल्लभभाई पटेल, अबुल कलाम आज़ाद, सरोजिनी नायडू, दुर्गाबाई देशमुख, विजया लख्मी पंडित और कुछ अन्य इस विधानसभा के प्रमुख व्यक्ति थे।

मसौदा:

बेनेगल नरसिंग राऊ (जो अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में पहले भारतीय न्यायाधीश और UNSC के अध्यक्ष थे) को १९४७ में विधानसभा के संवैधानिक सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया था, जिन्होंने पहली बार प्रारंभिक मसौदा तैयार किया था। लेकिन, १९४७ में संवैधानिक सभा की बैठक में, समितियों को तैयार किया गया था। डॉ। बीआर की अध्यक्षता वाली आठ-व्यक्ति मसौदा समिति द्वारा राऊ के मसौदे में संशोधन किया गया। बहस और चर्चा के बाद अंबेडकर। अंत में, इस समिति द्वारा ४ नवंबर, १९४७ को एक संशोधित संवैधानिक मसौदा प्रस्तुत किया गया था।

फिर लंबी चर्चा के बाद संशोधित संविधान २६४ सदस्यों द्वारा २६ जनवरी, १९४७ को हस्ताक्षरित किया गया – जिसे संविधान दिवस के रूप में जाना जाता है। आखिरकार, १ ९ ५०, २६ जनवरी में – यह शांतिनिकेतन के कलाकारों द्वारा प्रत्येक पृष्ठ को सजाने के बाद भारत का कानून बन गया। इस समय से भारत में प्रत्येक वर्ष २६ जनवरी को ‘गणतंत्र दिवस’ के रूप में मनाया जाता है.


Republic Day Speech


” दोस्तों ये मत भूलना,
करोड़ पति और खाली पेटी दोनों है ये देश में,
गुंडा राजा, नकली साधु दिखता है हर कोने में।
झंडा उत्तोलन और झूठा भाषण
ऐसे नेहीं हो सकता मातृ नमन।”
ईमानदारी से कहो – “जय हिन्द”

” Doston ye mat bhulna,
karor pati aur khali peti donon hai ye desh mein,
gunda raja, nakli saadhu dikhta hai har kone mein.
jhanda uttolan aur jhutha bhashan,
aise nehi ho sakta maatri naman.”
imandari se kaho – “Jai Hind”


Republic Day Speech


” देश माता को रक्षा करनेवाला वीर जवानों का
मेहनत कभी ब्यार्थ होने मत देना, ये वादा करों।”
✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽
” Desh maata ko raksha karnewala veer jawanon ka
mehnat kabhi byarth hone mat dena, ye wada karon.”

Motivational Status


Republic Day Speech


“जो इस देश में रहते हुए भी
देश माता को नमन नेहीं करते है,
उसको इस देश में रहने का
हक नेहीं है।”
✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽
“Jo is desh mein rahte hue bhi
desh maata ko naman nehi karte hai,
usko is desh mein rehne ka
koi hak nehi hai.”
✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽
“Who lives in this country but
don’t bow to the country mother,
they don’t have the right
to live in this country. “

Sachcha Pyar Quotes in Hindi


Republic Day Speech


“ये तिरंगा हमारा शान है,
ये हमारा मान है ,
इसकी गौरव हमारा है।
“Jai Hind”
✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽
“Ye Tiranga hamara shaan hai,
ye hamaara maan hai,
iski gourav hamaara hai.
“Jai Hind”
✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽
“This tricolor is our pride,
This is our value,
Its pride is ours.
“Jai hind”


Republic Day Speech


” माँ तो जनम दिया,
और जनम होने के साथ साथ से लेके
आज तक जिसने तुम्हें गोद में
पाल पोशके बड़ा किया,
उस माँ के लिए एक बार फिरसे बोलो-
“जय हिन्द।”
✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽
” Maa to janam diya,
aur janam hone ke saath saath se leke
aaj tak jisane tumhen god mein
paal poshke bada kiya,
us maan ke lie ek bar phirse bolo-
“Jay Hind.”


Republic Day Speech


Search this post on Google..
✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽✽

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *